Technology

Depression के क्या कारण हैं (Causes of Depression in Hindi)


Causes of Depression in Hindi: मैंने अपने पिछले पोस्ट में डिप्रेशन और डिप्रेशन के लक्षण के बारे में बताया था. आज इस पोस्ट में मैं वह कारण बताऊंगा जिससे व्यक्ति डिप्रेशन में चला जाता है अथवा वह डिप्रेशन या अवसाद का शिकार हो जाता है. आज डिप्रेशन किसी को भी हो सकता है, और भारत में खास कर डिप्रेशन के मरीज ज्यादा मिलते हैं. लेकिन बहुत से व्यक्ति यह नहीं समझ पाते की डिप्रेशन के कारण क्या हैं या डिप्रेशन किस कारण से होता है. तो आज का यह पोस्ट आपके लिए बहुत फायदेमंद होने वाला डिप्रेशन के कारण (Causes o Depression) को जानने के लिए इस पोस्ट को पूरा पढ़ें.

Depression के क्या कारण हैं? (Causes of Depression in Hindi)

प्रमुख जीवन की घटनाओं, जैसे कि गंभीर दुर्घटनाएं, बार बार असफलता प्राप्त करना, किसी के सबसे ज्यादा चाहने वाले का दूर होना, जीवन के झटके, काम या पैसे की हानि, किसी Assignment or Project में असफलता और अन्य कई कारण हैं जो depression की ओर ले जाते हैं। और डॉक्टर भी मानते हैं कि depression उदासी की भावना का हिस्सा हैं। अगर इसका सही समय से इलाज नहीं किया जाय तो यह लंबे समय तक रह सकता है। यहां पर depression के कुछ विशेष कारण दिए गए हैं।

जैव रासायनिक कारक

आधुनिक और परिष्कृत तकनीकों के साथ Imaging करने वाले अनुसंधान डिप्रेशन वाले लोगों के मस्तिष्क में शारीरिक परिवर्तनों की घटना को देख सकते हैं। यह ज्ञात नहीं है कि ये परिवर्तन कौन कौन से हैं और उनका क्या महत्व है, लेकिन इससे डिप्रेशन के कारणों को परिभाषित करने और पहचानने में मदद मिलेगी। यह संभव है कि मानव मस्तिष्क में प्राकृतिक रूप से मौजूद रसायन, जिसे “न्यूरोट्रांसमीटर” (Neurotransmitter) कहा जाता है और मूड से संबंधित होता है, अवसाद पैदा करने में भूमिका निभाता है। इसके अलावा, शरीर में हार्मोनल संतुलन में असंतुलन भी depression या अवसाद का कारण होगा।

आनुवंशिक कारक

यदि आपके परिवार में पहले से ऐसे लोग रहे हैं जिन्हें डिप्रेशन की समस्या हो तो आपको भी वह समस्या हो सकती है। कुछ शोध से पता चलता है कि Depression की शुरुआत उन लोगों में अधिक प्रचलित है जिनके डिप्रेशन के साथ जैविक संबंध हैं। शोधकर्ता अभी भी अवसाद पैदा करने वाले जीन का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं। अनुवंसीकी से होने वाला depression एक बहुत ही गंभीर समस्या है क्योकि इसके पीढ़ी दर पीढ़ी विकशीत होने की संभावना होती है।

पर्यावरणीय कारक

पर्यावरणीय कारक में जीवन में ऐसी स्थितियाँ और परिस्थितियाँ हैं, जिनका सामना करना मुश्किल होता है और सह-अस्तित्व होता है, जैसे किसी प्रिय व्यक्ति का दूर होना, कोई सदमा लगना, आर्थिक समस्याएं और तीव्र तनाव आदि। इस तरह के घटनाएं आसानी से भुलाए नहीं जाते और दिन भर हमारे मन में यही सब बात घूमता रहता है और हम डिप्रेशन का शिकार हो जाते हैं। depression आम तौर पर जीवन के 20 वर्षों के अंत में शुरू होता है, लेकिन यह किसी भी उम्र में प्रकट हो सकता है और छोटे बच्चों से लेकर बुजुर्गों, वयस्कों तक किसी को भी प्रभावित कर सकता है।

depression का निदान करने वाली महिलाओं की संख्या पुरुषों की तुलना में दोगुनी है। यह इस कारण से हो सकता है कि, इस तथ्य के लिए कि महिलाओं में अवसाद के इलाज की तलाश करने की अधिक संभावना है।

Depression को जन्म देने वाले अन्य कारक

Depression का सही कारण ज्ञात नहीं है, लेकिन शोध से कुछ ऐसे संकेत मिले हैं जो डिप्रेशन के जोखिम को बढ़ाते हैं, या इसके कारण बनते हैं, जिनमें शामिल हैं:

  • Depression के साथ जैविक रिश्तेदारों की उपस्थिति
  • तलाक
  • आर्थिक समस्या
  • कुछ विशेष प्रकार के दवाओं का सेवन करना
  • परिवार में आत्महत्या
  • तनावपूर्ण जीवन की घटनाओं, जैसे कि किसी प्रियजन की मृत्यु
  • सुबह में अवसादग्रस्त मूड
  • रोग, जैसे: कैंसर, हृदय रोग, अल्जाइमर या एड्स
  • कुछ दवाओं के लंबे समय तक लगातार उपयोग, जैसे कि एक निश्चित प्रकार की दवाएं जैसे उच्च रक्तचाप, नींद की गोलियां और कुछ मामलों में जन्म नियंत्रण की गोलियाँ।

ये भी पढ़ें:

अन्तिम शब्द,

आज इस पोस्ट में मैंने डिप्रेशन के कारण (Causes of Depression) पर विचार किया. आशा करता हूँ आपको यह पोस्ट पसंद आया होगा. यदि आपके लिए यह पोस्ट उपयोगी हो तो इसे अन्य लोगों के साथ भी जरुर शेयर करें. साथ ही यदि आपके पास डिप्रेशन से जुदा कोई सवाल हो तो हमें कमेंट करके बताएं.

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button