Technology

Cryptocurrency क्या है और यह कैसे काम करता है?


क्रिप्टो करेंसी क्या है? (Cryptocurrency kya hai?) के बारे में तो आपने सोशल मीडिया, न्यूज़, जनरल अवेयरनेस की किताबें आदि से कुछ ना कुछ सुना ही होगा। बाजार में क्रिप्टोकरंसी (Cryptocurrency) का आगमन जब से हुआ है यह सबसे अच्छा रिटर्न्स देने वाला ऑप्शन बना हुआ है, कभी-कभी क्रिप्टो करेंसी की उछाल शेयर मार्केट की तुलना में ज्यादा होती है, जिसके कारण इसकी लोकप्रियता दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है.

बहुत जल्द ही इसने वित्तीय बाजार (financial market) में अपनी जगह स्थापित कर ली है। आज के इस आर्टिकल में क्रिप्टो करेंसी क्या है? (Cryptocurrency kya hai?), क्रिप्टो करेंसी का इस्तेमाल कैसे करें? (Cryptocurrency ka use kaise karen?), क्रिप्टो करेंसी से पैसे कैसे कमाएं? (Cryptocurrency se paise kaise kamae?) के बारे में बताने वाले हैं।

क्रिप्टोकरेंसी क्या है? (Cryptocurrency kya hai?)

क्रिप्टो करेंसी एक प्रकार की डिजिटल मनी है, जिसका उपयोग डिजिटल प्लेटफार्म पर ही किया जाता है। विशेषज्ञों का तो यह भी मानना है कि डिजिटल मनी अर्थात  क्रिप्टोकरंसी का भविष्य बहुत आगे तक है। क्रिप्टो करेंसी एक प्रकार के वर्चुअल करेंसी (VIRTUAL CURRENCY) है, जिसे डिजिटल मनी ( DIGITAL MONEY) के नाम से भी जाना जाता है।

‘क्रिप्टो’ (Crypto) का अर्थ होता है अदृश्य और ‘करेंसी’ का अर्थ होता है मुद्रा। क्रिप्टो करेंसी का सीधा-सीधा अर्थ है वह अदृश्य मुद्रा, जिसका इस्तेमाल तो किया जा सकता है परंतु उसे देखा नहीं जा सकता। क्रिप्टो करेंसी का निर्माण करने के लिए जिस  विधि का उपयोग किया गया है उसे क्रिप्टोग्राफी (Cryptography) कहते हैं। सर्वप्रथम क्रिप्टो करेंसी को वर्ष 2009 में दुनिया के सामने प्रस्तुत किया गया था।

फिजिकल करेंसी जैसे कि हमारे भारतीय मुद्रा सिक्कों तथा नोटों के रूप में उपलब्ध  होते हैं वैसे ही बात करें क्रिप्टो करेंसी की तो यह फिजिकली उपलब्ध नहीं होती है। Cryptocurrency को मैनेज करने के लिए एक प्रकार का सॉफ्टवेयर प्रोग्राम होता है, जहाँ Cryptocurrency ऑनलाइन स्टोर किया जाता है या रखा जाता है लेकिन इसे सिक्के या नोटों की तरह छुआ नहीं जा सकता। इस तकनीक को Decentralized peer to peer transaction technique कहते हैं। इस करेंसी को डिजिटल वॉलेट में स्टोर किया जाता है। इसलिए इसे ऑनलाइन मनी (Online money) भी कहा जाता है। यह ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी (blockchain technology) पर आधारित होती है।

Cryptocurrency का उपयोग बहुत ही सरलता से किया जाता है। Cryptocurrency को ट्रांसफर करने के लिए बिना किसी बैंक की सहायता से हम इसका ट्रांजैक्शन कर सकते हैं। इसका ट्रांजैक्शन कंप्यूटर या मोबाइल या लैपटॉप की मदद से किया जा सकता है।

जैसा कि हम जानते हैं हमारे भारतीय मुद्रा रुपया (Rupees), यूरोप (Europe) की मुद्रा यूरो (Euro) यूएसए (USA) की मुद्रा डॉलर (Dollar) आदि पर सरकार तथा बैंक का कंट्रोल होता है परंतु क्रिप्टो करेंसी में सरकार तथा बैंक का कोई हस्तक्षेप नहीं होता है। यह पूरी दुनिया में इस्तेमाल किया जाता है।

वर्तमान समय में पूरे विश्व में 5000 से भी ज्यादा क्रिप्टो करेंसी (Cryptocurrency) उपलब्ध है। क्रिप्टो करेंसी की दुनिया में सबसे पहला नाम बिटकॉइन (Bitcoin) का ही है जो कि सबसे पॉपुलर और लोकप्रिय क्रिप्टो करेंसी है। क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज (Cryptocurrency exchange) में ऑनलाइन वॉलेट मतलब की डिजिटल वॉलेट बनाया जाता है और इसे User के बैंक अकाउंट से लिंक किया जाता है। हम जब भी क्रिप्टो करेंसी खरीदते हैं तो उसे ऑनलाइन वॉलेट में स्टोर किया जाता है। Coinswitch App और CoinDcx App को हमारे देश में ज्यादा पसंद किया गया है और यह लोगों के बीच लोकप्रिय बना हुआ है। चलिए आगे बढ़ते हुए हम आपके साथ कुछ और जानकारी साझा करते हैं.

क्रिप्टोकरेंसी का मूल्य क्या होता है? (What is the value of Cryptocurrency?)

हम सभी जानते हैं कि पूरे विश्व में बहुत सारे देश हैं और सभी देशों की मुद्राएं (Currency) अलग-अलग है। जिस प्रकार सभी देशों की करेंसी अलग अलग होती है, जैसे कि रुपया, डॉलर, येन, यूरो आदि की वैल्यू अलग होती है, उसी प्रकार क्रिप्टो करेंसी की भी एक अलग वैल्यू होती है। क्रिप्टो करेंसी की वैल्यू हमारे देश की करेंसी की वैल्यू से कई गुना ज्यादा है।

Cryptocurrency की वैल्यू में समय-समय पर कई प्रकार के उतार-चढ़ाव आते रहते हैं। जानकारी के लिए बता दें कि क्रिप्टो करेंसी की वैल्यू कभी भी स्थिर नहीं होती है बल्कि इसमें बदलाव होते रहते हैं। इसलिए इसकी कीमत में इसके मूल्य में समय-समय पर प्रति मिनट बदलाव देखने को मिलते हैं।

क्रिप्टो करेंसी वॉलेट किसे कहते हैं? (What is cryptocurrency wallet?)

जिस प्रकार हमें अपने पैसों को रखने के लिए पर्स, वॉलेट, लॉकर आदि की आवश्यकता होती है उसी प्रकार क्रिप्टो करेंसी को स्टोर करने के लिए वॉलेट की आवश्यकता पड़ती है। यह बहुत ही आसानी से ऑनलाइन उपलब्ध होता है। इसे हम हार्ड ड्राइव (Hard Drive) या यूएसबी ड्राइव (USB Drive) में स्टोर कर सकते हैं ।

क्रिप्टो करेंसी को स्टोर करने के लिए एक अच्छा और सेफ (Safe) वॉलेट के ऑप्शन का चुनाव (Choose) करना आवश्यक है। वॉलेट के माध्यम से हम क्रिप्टो करेंसी सेंड और रिसीव कर सकते हैं अर्थात वॉलेट हमारे लिए ट्रांजैक्शन का एक बेहतर माध्यम होता है।

क्रिप्टो करेंसी को स्टोर कैसे करें? (Cryptocurrency ko store kaise karen?)

यदि आप क्रिप्टो करेंसी को स्टोर करना चाहते हैं और जानना चाहते हैं Cryptocurrency ko store kaise karen? का जवाब, तो आपको बता दें कि क्रिप्टो करेंसी को वॉलेट में स्टोर करने के लिए दो प्रकार के वॉलेट की सुविधा दी जाती है, जो निम्नलिखित है-

  1. हॉट वॉलेट (Hot wallet) : Hot Wallet इंटरनेट से जुड़ा होता है और यह ऑनलाइन उपलब्ध होता है। इसमें ऑनलाइन cloud वॉलेट, मोबाइल वॉलेट क्रिप्टो एक्सचेंज, सॉफ्टवेयर वॉलेट, शामिल होता है।
  2. कोल्ड वॉलेट (Cold Wallet) : Cold Wallet इंटरनेट से जुड़ा हुआ नहीं होता है। यह ऑफलाइन उपलब्ध कराया जाता है। इसमें हार्डवेयर वॉलेट जैसे कि कंप्यूटर, हार्ड डिक्स, मोबाइल फोन, यूएसबी ड्राइव, और पेपर वॉलेट शामिल होते हैं। कोल्ड वॉलेट क्रिप्टो करेंसी को स्टोर करने का सबसे सुरक्षित तरीका माना जाता है।

ऑनलाइन वॉलेट यानी कि हॉट वॉलेट कोल्ड वॉलेट की तुलना में ज्यादा रिस्की माने जाते हैं क्योंकि इसमें ऑनलाइन वायरस और हैकर से धोखा मिलने की आशंका होती है। इसलिए क्रिप्टो करेंसी का इस्तेमाल करने के लिए एक सही प्रकार के वॉलेट का चुनाव करना होता है।

क्रिप्टो करेंसी कितने प्रकार के होते हैं? (How many types of Cryptocurrency?)

विश्व भर में 5000 से भी ज्यादा क्रिप्टो करेंसी मौजूद है। दुनिया में ऐसे बहुत से लोग हैं जो अब क्रिप्टो करेंसी में अपने पैसों को इन्वेस्ट करने लगे हैं। क्रिप्टो करेंसी कुल 5000 से भी ज्यादा है, जिसमें से कुछ लोकप्रिय क्रिप्टो करेंसी के बारे में हमने बताया गया है। आगे हम कुछ लोकप्रिय क्रिप्टो करेंसी के बारे में बात करेंगे, जो निम्नलिखित हैं –

Bitcoin (BTC)

Bitcoin विश्व की सबसे पहली और अब तक की सबसे Popular क्रिप्टो करेंसी है। वर्ष 2009 में इसका निर्माण संतोषी नाकामोतो ने किया था। बिटकॉइन(Bitcoin) बहुत ही कम वक्त में अपनी वैल्यू को बढ़ा चुका है। वर्तमान समय में एक बिटकॉइन (Bitcoin) का मूल्य 37 लाख से भी ज्यादा है।

Litecoin (LTC)

Litecoin भी एक प्रकार की वर्चुअल मनी(Virtual Money) है। यह एक decentralized peer to peer currency है। Litecoin का उपयोग Instant Basis पर Peer to Peer पेमेंट Transaction के लिए होता है। Charlie Lee के द्वारा इसका निर्माण वर्ष 2011 में किया गया था।

वर्तमान समय में पूरे विश्व में बिटकॉइन से  अपेक्षाकृत ज्यादा इसका उपयोग किया जाता है। इसके ट्रांजैक्शन में समय काफी कम लगता है तथा इसके कुछ Features बिटकॉइन के Features से काफी मिलते हैं।

Ethereum (ETH)

जिस प्रकार बिटकॉइन एक प्रसिद्ध क्रिप्टोकरंसी है, उसी प्रकार Ethereum भी एक फेमस वर्चुअल करेंसी (क्रिप्टो करेंसी) है। Vitalik Buterin ने वर्ष 2015 में इसका निर्माण किया था। इसे एक अन्य नाम Ether से भी जाना जाता है। वर्तमान समय में बिटकॉइन के बाद दूसरी सबसे Popular करेंसी Ethereum ही है। Decentralised blockchain technique के Basis पर यह कार्य करती है।

Dogecoin (DOGE)

Dogecoin फिलहाल काफी चर्चा का विषय बनी हुई है। इसे वर्ष 2013 में Jackson Palmar एवं Billy Markus ने मिलकर बनाया था। इस करेंसी को उन लोगों ने मजाक मजाक में बनाया था, जो आगे चलकर काफी पॉपुलर हुई और इसमें लोग इन्वेस्ट करने लगे। जिसकी वैल्यू में देखते ही देखते वृद्धि हो गई। इसको सपोर्ट करने के लिए फेमस Business men एलोन मस्क ने भी इसमें Invest किया। Dogecoin ने काफी कम समय में अपना स्थान बाजार में स्थापित कर लिया। पिछले कई सालों में इसकी वैल्यू काफी तेजी से बढ़े हैं।

क्रिप्टो करेंसी के फायदे क्या हैं? (What are the profits of Cryptocurrency?)

क्रिप्टो करेंसी के फायदे की बात की जाए तो इसके फायदे को निम्नलिखित रूप से देख सकते हैं –

  1. यदि हम दूसरे पेमेंट ऑप्शन की बात करें तो इसके ट्रांजैक्शन फीस अपेक्षाकृत कम है।
  2.  क्रिप्टो करेंसी में धोखे की आशंका कम होती है।
  3. अन्य प्लेटफार्म के अपेक्षाकृत इसमें अकाउंट safe है क्योंकि इसमें भिन्न प्रकार की क्रिप्टोग्राफी एल्गोरिथमि का उपयोग किया जाता है।
  4. क्रिप्टो करेंसी में केंद्र सरकार, राज्य सरकार या किसी बैंक का कोई हस्तक्षेप नहीं होता है। इसकी ट्रांजैक्शन के लिए किसी के आदेश की कोई आवश्यकता नहीं होती है।
  5. क्रिप्टो करेंसी एक प्रकार के वर्चुअल करेंसी है जो अपेक्षाकृत सुरक्षित है।

क्रिप्टो करेंसी के नुकसान क्या हैं? (What are the losses of Cryptocurrency?)

क्रिप्टो करेंसी के जहां एक तरफ कई फायदे नजर आते हैं वहीं इसके कुछ नुकसान भी हैं जो निम्नलिखित हैं –

  1. यह एक प्रकार की वर्चुअल करेंसी है, जो डाटा ऑनलाइन माध्यम में store करती है। इसीलिए इसे हैक कर पाना संभव है ।
  2. इस वर्चुअल करेंसी में रिवर्स ट्रांजैक्शन की कोई सुविधा नहीं होती है अर्थात एक बार ट्रांजैक्शन कर दिया गया, तो उसे वापस नहीं लिया जा सकता है।
  3. क्रिप्टो करेंसी की वैल्यू में किसी का भी कंट्रोल नहीं होता है। इसकी वैल्यू में कभी भी उछाल तथा गिरावट आ सकती है।
  4. यदि आपके वॉलेट आईडी खो जाती है तो इसे दोबारा पाना मुश्किल होता है। इसीलिए आपके वॉलेट में जो भी पैसे हैं वह हमेशा के लिए खो जाते हैं ।

क्रिप्टो करेंसी से पैसे कैसे कमाएं? (Cryptocurrency se paise kaise kamae?)

जैसा कि हमने आपको ऊपर की दी गई जानकारी में बताया कि बिटकॉइन क्रिप्टो करेंसी का एक महत्वपूर्ण प्रकार है और साथ ही साथ लोकप्रिय भी, तो इसी के साथ बता दें कि यदि सवाल उठता है क्रिप्टो करेंसी से पैसे कैसे कमाएं? (Cryptocurrency se paise kaise kamae?) जानकारी के लिए बता दें बिटकॉइन जैसे लोकप्रिय क्रिप्टो करेंसी की वैल्यू लाखों रुपए से कहीं ज्यादा होती है‌। इसमें ट्रेडिंग और इन्वेस्टमेंट करके अच्छी कमाई की जा सकती है। इसका मतलब है कि आप इसका इस्तेमाल करके अच्छी खासी कमाई कर सकते हैं। इसकी मदद से आप अपने रोजमर्रा की जरूरतों को पूरा कर सकते हैं। इसका उपयोग किसी वस्तु को खरीदने में भी किया जा सकता है।

Cryptocurrency exchange क्या है? (What is cryptocurrency exchange?)

यदि आप क्रिप्टो करेंसी क्या है? (Cryptocurrency kya hai?) के बारे में जानते हैं और आपके पास थोड़ी बहुत भी जानकारी उपलब्ध है, तो आपको क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज के बारे में भी पता होगा। क्रिप्टो करेंसी के क्रय-विक्रय के लिए मतलब की खरीदने और बेचने के लिए क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज (Cryptocurrency exchange) का प्रयोग किया जाता है।

क्रिप्टो करेंसी में कई प्रकार के क्रिप्टो करेंसी एक्सचेंज उपलब्ध है जिसके द्वारा आप Bitcoin, Ethereum, storeJ, Litecoin जैसे कई अन्य प्रकार की क्रिप्टो करेंसी उपलब्ध है, जिसका आप क्रय विक्रय कर सकते है । क्रिप्टो करेंसी के बारे में जानने के बाद अब सवाल यह है कि क्रिप्टो करेंसी का क्रय-विक्रय कैसे करें? (Cryptocurrency exchange kaise karen?) तो चलिए इसका जवाब नीचे देखते हैं।

क्रिप्टो करेंसी का एक्सचेंज करने के लिए ऑनलाइन बहुत सारे एप्लीकेशंस (Applications)मौजूद है। इसमें मुख्य रूप से शामिल हैं Coinswitch App, CoinDcx App, Binance App, wajirX App, ZebPay App, BuyUCoin App आदि, जिसके माध्यम से क्रिप्टो करेंसी को खरीदा या बेचा जा सकता है।

Cryptocurrency से जुड़े अन्य सवाल

सबसे सस्ती क्रिप्टो करेंसी कौन सी है?

सवसे सस्ती Cryptocurrency, Underdog (DOG) है. भारत में इसका मूल्य मात्र 56 पैसे हैं.

क्या Cryptocurrency में निवेश करना Safe है?

Cryptocurrency की कीमत में उतार चढाव होते रहते हैं. यदि आप लम्बे समय तब निवेश करना चाहते हैं तो आपको लाभ जरुर होगा. और रही बात Ban हिने की तो बता दें की भले ही क्रिप्टो पर प्रतिबंध लगा दिया गया हो, फिर भी लोग इसे एक दूसरे के साथ साझा कर सकते हैं। क्रिप्टोकरेंसी केवल कंप्यूटर प्रोग्राम हैं जिन्हें प्रतिबंधित नहीं किया जा सकता है। हालाँकि, यह एक नियामक प्रतिबंध के अधीन हो सकता है। इससे आम लोगों के लिए क्रिप्टोकरेंसी में व्यापार करना असंभव हो जाएगा।

क्रिप्टो करेंसी का भविष्य क्या है?

क्रिप्टोकरेंसी ने युवाओं का ध्यान बहुत खींचा है, कई युवा क्रिप्टोकरेंसी में निवेश कर रहे हैं। एक दौर था जब शेयर बाजार में निवेश करने से पहले उसके बारे में बहुत रिसर्च किया जाता था लेकिन आज के युवाओं के लिए यह आसान हो गया है.

About Cryptocurrency in Details

ये भी पढ़ें:

निष्कर्ष

हम उम्मीद करते हैं कि इस आर्टिकल में आपको क्रिप्टो करेंसी क्या है? (Cryptocurrency kya hai?) के बारे में जानकारी मिल गई होगी। यहां हमने क्रिप्टो करेंसी से संबंधित सभी महत्वपूर्ण विषयों जैसे cryptocurrency exchange kaise karen, cryptocurrency ke fayde aur nuksan, cryptocurrency se paise kaise kamae आदि के बारे में चर्चा किया है, जो क्रिप्टो करेंसी की विस्तृत जानकारी प्राप्त करने में आपकी मदद करेगा। आप चाहे तो सोशल मीडिया पर भी इस जानकारी को शेयर कर सकते हैं ताकि अधिक से अधिक लोग क्रिप्टो करेंसी के जानकारी को प्राप्त कर सकें।

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button